सहमी आंखों में इंतजार
आंगन में बैठी केसर देवी सूरज की तपन ले रही थी | तभी बेटा लालचंद आता है | मां से कहता है, मां अगले महीने होली का त्यौहार आ रहा है | इस बार तुम हमारे लिए घर पर ही हिस्से-गूजे बनाना !  मां कहती है ठीक है | अगले दिन केसर देवी अपनी पड़ोसन पिंकी से यह सब बात बताती है | मेरा बेटा हिस्से-गूजे बनाने की बात …
Image
अधिकार का ग़लत उपयोग ना करें
अनामिका सेठ हीरा लाल की बड़ी बहु, सेठ जी की पत्नी का देहांत हो गया और सेठ जी भी लकवाग्रस्त हो गए, अब सेट जी की तामीरदारी का दायित्व अनामिका पर आ गया , छोटे देवर और ननद की शादी भी कर दी गई, मगर एक एक्सीडेंट में देवर की टांगें चली गई, इसी वजह से देवरानी नमता पति की तिमारदारी में रहती और घर का भी काम …
Image
"रिटायरमेंट के बाद क्या"
ज़िंदगी का रस है बेहद मीठा पी लो जल्दी-जल्दी, समय कम है और उम्र की सुराही लबालब है, छलकने से पहले जी लो जल्दी-जल्दी। उम्र के एक पड़ाव के बाद हमें मुठ्ठी को खोल देनी चाहिए अपने हिस्से के लम्हों को पकड़ने के लिए, और पचास साठ साल तक ज़िंदगी से जूझते, जद्दोजहद में बिताए लम्हों को आज़ाद करने के लिए। कोई…
Image